[BEST] 750+ शायरी मोहब्बत

शायरी मोहब्बतइस्तेमाल करे शायरी मोहब्बत, मोहब्बत शायरीदो लाइन मोहब्बत शायरी, मोहब्बत भरी शायरी ग़ज़लIshq Mohabbat Shayari, मोहब्बत भरी शायरी, मोहब्बत शायरी 2 लाइनखूबसूरत मोहब्बत शायरी और इस के साथ मोहब्बत भरी शायरियां आपके सोशल स्टेटस के लिए.


 जसा की अप सभी जानते हैं हमारा ब्लॉग Topics-guru हर हप्ते आपके लिए कुछ नया जानकारी लेके आते है, वो Shayari हो या Quotes हो या फिर Slogan हो या  Captions  हो. और दोस्तों अगर अपने हमारे ब्लॉग को   SUBSCRIBE नही किया हैं अभी तक तो  SUBSCRIBE जल्दी कर लीजिये नया पोस्ट के आनंद पाने के लिए.



[BEST] 750+ शायरी मोहब्बत 





शायरी मोहब्बत: तेरी धड़कन ही ज़िंदगी का किस्सा है मेरा
तू ज़िंदगी का एक अहम् हिस्सा है मेरा
मेरी मोहब्बत तुझसे सिर्फ़ लफ्जों की नहीं है
तेरी रूह से रूह तक का रिश्ता है मेरा.



इसी कशमकश में 
सारा दिन गुज़र जाता है
उस से बात करूं या उसकी बात करूं.


प्यार मोहब्बत चाहत इश्क़ जिन्दगी उल्फ़त
एक तेरे आने से कितना बदल गई किस्मत.


शायरी मोहब्बत

शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com



बेवकूफ होते हे वो लोग जो किताब में चेहरा डाल के पढ़ा करते हे,
हम तो उनमे से है जो चेहरे को देख के किताब लिख दिया करते हे !!


आंसू जानते है कोन अपना है तभी अपनों के सामने निकलते है,
मुस्कुराहट का क्या है… गैरों से भी वफ़ा कर लेती है।


रिश्तों में सदा प्यार की मिठास रहे !
कभी न मिटने वाला एक एहसास रहे !
कहने को तो छोटी सी है यह जिंदगी !
मगर दुआ है कि सदा आपका साथ रहे !!





आकाश मे डूबा एक प्यारा तारा है, हमको तो किसी की बेवफ़ाई ने मारा है, 
हम उनसे अब भी मोहब्बत करते है, जिसने हमे मौत से भी पहले मारा है.



मोहब्बत शायरी 



मोहब्बत शायरी: अजब चीज है ये मोहब्बत की बाज़ी
जो हारे वो जीते जो जीते वो हारे
-रजा हमदानी


दोनों जानते हे के, हम नहीं एक-दूसरे के नसीब में,
फिर भी मोहब्बत दिन-ब-दिन बे-पनाह होती जा रही हे !!

शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com



तस्वीर में हम कई बार मिल चुके है
मुलाकात तो क्या आगे की कहानी भी लिख चुके है


गजब का जुल्म ढाया 
उसने हम दोनों के उपर
मुझे भरपुर इश्क 
देकर तुम्हें बेइंतहा
 हुस्न देकर  



दो लाइन मोहब्बत शायरी


दो लाइन मोहब्बत शायरी: यह  किसी  आग  मुझमे  की  एक
मुदात  से  तमाशा  देख  रहा  हूँ
में  अपने  जलने  का..



उसे याद आयेगी जिस दिन मेरी मोहब्बत,
वो रोयेगा बहोत फिर से मेरा होने के लिये..


करीब आजा तुझे बाँहों में लेके झूम लू,
सीने से लगा लूँ.. तेरे होंठो को चूम लू।


उसकी सादगी भरे चेहरे को देखकर, हम भूल गए सोलहों श्रृंगार लोग मरते हैं, 
तो मरें मेकअप से लदी हसीनाओं पर हमें तो हो गया है, 
उस भोले-भाले चेहरे वाली से प्यार…..
शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com



वफ़ा तुम से करेंगे दुख सहेंगे नाज़ उठाएंगे
जिसे आता है दिल देना उसे हर काम आता है
- आरजू लखनवी


अपनापन तो हर कोई दिखाता है,
पर अपना कौन है,
ये तो वक्त दिखाता |


मोहब्बत भरी शायरी ग़ज़ल



मोहब्बत भरी शायरी: मै दरख़्त सूखने को जड़े जलाता रहा
वो आंसू मुझे जिंदा समझें बरसते रहे!


जिंदगी में एक प्यारी सी ख़ता कीजिये 
 इश्क हो जाये जिससे उसे बता दीजिये,
ना कर सको इक़रार तो बस इतना
 कीजिये जिसे कहते हो आप
उसे बस तुम  कह दीजिये


शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com




ज़िंदगी तेरी बाहों में गुजारने की चाहत है,
तेरी यादें हाथों में थामने की चाहत है,
तुम्हारे चेहरे के अलावा, ना कोई चेहरा है इन आँखों में,
बस तुमसे बेइंतहा मोहब्बत करने की चाहत है॥


बिखरते तो सब है इस दुनिया में जनाब
पर जो खड़ा हो सके बिखरने के बाद
वही ज़िंदगी जीत जाता है

क्या बताऊं उसके बारे में
दोस्तों
वो मुझसे भी लड़ती हैं
और मेरे खातिर भी लड़ती हैं


ishq mohabbat shayari


ishq mohabbat shayari: दिल ही तोड़ना था तो कह देती
कब तेरी मांग को झुठलाया है
बहुत पछताओगी एक दिन
क्योंकि तुमने सच्चा प्यार ठुकराया है



कुछ ऐसे हादसे भी जिंदगी में होते हैं,
के इंसान तो बच जाता है मगर जिंदा नहीं रहता !!



जितना रुला सकते हो  रुला लो
बस मुझे अपनी बाहों में सुला लो






कभी मिले तुम्हे फुरसत तो इतना जरुर बताना,
वो कौनसी मौहब्बत थी हम तुम्हे दे ना सके….


आरज़ू है तुम्हे अपना बनाने की और कोई आरज़ू नही है
दीवाने की शिकवा क्यू करती हो अब तुम किसी से क्या ज़रूरत थी तुम्हे यू इतराने की



मुझसे ही मिलकर हंसना
मुझसे ही मिलकर रोना
मुझसे बिछड़कर जी लो
 ऐसा कभी न करना

मोहब्बत भरी शायरी



मोहब्बत भरी शायरी: तू गुस्सा करे तो रो लेते हैं
हमें दर्द छुपाना नहीं आता
खुद से भी नाता टूट गया है
पर तुझे भुलाना नहीं आता


दर्द बनकर ही रह लो हमारे साथ,
सुना है… दर्द बहुत समय तक साथ देता है।


डश रही है मुझे मेरी तन्हाई
अपने साथ-साथ ले जाते
तेरी यादों की परछाई


मोहब्बत कुछ अलग है मेरी तुमसे जानू
तुम ख्यालों में ही नहीं दुआओं में भी आते हो


तेरे चेहरे के हज़ारो चाहने वाले
तेरी रूह का में अकेला दीवाना


मोहब्बत शायरी 2 लाइन





मोहब्बत शायरी 2 लाइन: एक कदम उठाया है और दुसरे का फ़िक्र है
ज़िन्दगी कुछ इस तरह के वादों का सफर है
पढ़ता पढ़ता सो गया तेरी उस किताब को
शायद आखरी सफे पर मेरा ज़िक्र हो जाए



मुस्कराहट तुम्ही से मिलती है,
दर्द की रहत तुम्ही से मिलती है,
रूठना कभी मत हमसे ऐ सनम,
हमे जीने की चाहत तुम्ही से मिलती है |


तुझें मोहब्बत करने का हिसाब न आया,
मेरे किसी भी सवाल का जबाब न आया,
हम तो जागते रहें तेरे ही ख्यालों में,
और तुझे सो कर भी हमारा ख्वाब न आया |


तेरे आँसू अपनी आँखो में छुपा लू, तेरे दर्द को मैं अपना बना लूँ, 
एक बार कह दो मेरा हक़ है तुम पर, 
इस दुनिया से लड़ कर तूमे अपना बना लू.
शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com
तेरी मोहब्बत के लिए
हम इतने तरस रहे हैं
कि तेरी एक झलक के लिए
मेरे नैना बरस रहे हैं

खूबसूरत मोहब्बत शायरी





खूबसूरत मोहब्बत शायरी: ज़िन्दगी की तह अब उतरने लगी है
अश्कों की तासीर बदलने लगी है
वो जो हरारत सी हमको हुई थी 
उन्हें देख तबियत सम्हलने लगी है 
ना झाँका करो झरोखे से बाहर
शहर की हवा अब बदलने लगी है



इतनी ठोकरे देने के लिए शुक्रिया ए-ज़िन्दगी।
चलने का न सही सम्भलने का हुनर तो आ गया।।


सुनो जानू तुमसे प्यार करने की बिमारी है
सुबह दुपहर शाम जरूरत तुम्हारी है


सबूत  हर  एक  बात  का  देना  पड़  रहा  है,
भरोसा  वाक़ई  बुरे
दौर  से  गुज़र  रहा  है


छुपाना चाहता हूँ तुम्हे अपनी आग़ोश में इस क़दर,
कि हवा भी गुज़रने की इज़ाजत माँगे,
हो जाऊँ मैं मदहोश तुम्हारे इश्क़ में इस क़दर,
कि होश भी आने की इज़ाजत माँगे।

मोहब्बत भरी शायरियां



मोहब्बत भरी शायरियां: सुन PAGLI 😘
जैसे फूलों 🌷में हमेशा ख़ुशबू😍
रहती है वैसे ही MERI जान,💃
मेरी बातों में TERA 💃👈✔ज़िक्र
हमेशा रहता है💋😘💃



बड़ी गहराई से चाहा है तुझको,
बड़ी दुवाओ से पाया है तुझको,
तुझे भूलने की सोचु भी तो कैसे,
किस्मत की लकीरो से चुराया है तुझको॥





मेरा आज और कल तुम हो,
मेरी हाथों की मेहन्दी और लकीरे तुम हो,
हर पल बस तुम्हारा ही रहता है ख्याल हमको,
कुछ इतना दिल के करीब तुम हो॥


इस कदर हम यार को मनाने निकले!
उसकी चाहत के हम दिवाने निकले!
जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा!
उसके होठों से वक़्त न होने के बहाने निकले!


कोशिश न कर,
खुश सभी को रखने की,
कुछ लोगों की नाराजगी भी जरुरी है,
चर्चा में बने रहने के लिए |

पयार मोहबत शायरी



पयार मोहबत शायरी: तेरे लिबास से मोहब्बत की है,
तेरे एहसास से मोहब्बत की है,
तू मेरे पास नहीं फिर भी,
मैंने तेरी याद से मोहब्बत की है..!


बड़ा गज़ब किरदार है मोहब्बत का,
अधूरी हो सकती है, मगर खत्म नहीं हो सकती.

शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com

बदलना आता नहीं हमें मौसम की तरह,
हर इक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,
ना तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते हैं।



भीगी मौसम की खुश्बू इन हवाओ मे हो,
आपकी यादो का एहसास, इन फिज़ाओ मे हो,
यूँ ही रहे सदा, आप के होंठो पर मुस्कान,
इतना असर मेरी दुवाओ मे हो॥


खूबसूरत ये SARE नज़ारे हो गए,💞💕💞💕
जिस घडी से HUM तुम्हारे हो गए


मोहब्बत कैसी भी हो कसम से 
सजदा करना सिखा देती है 




कभी हंसा देते हो, कभी रुला देते हो,
कभी कभी नींद से जगा देते हो,
मगर जब भी दिल से याद करते हो,
कसम से ज़िंदगी का एक पल बढ़ा देते हो॥


कितनी छोटी है ये जन्नत मेरी,
एक मै हूँ और एक मोहब्बत मेरी.


कहा ये किसने कि फूलों से दिल लगाऊं मैं,
अगर तेरा ख्याल ना सोचूं तो मर जाऊं मैं,
माँग ना मुझसे तू हिसाब मेरी मोहब्बत का,
आ जाऊं इम्तिहान पर तो हद्द से गुज़र जाऊं मैं।



मैं तुम्हें छोड़ जाऊं ये हो नहीं सकता
मुझे कोई और फसा ले ये मेरा जानू होने नहीं देगा


नींद भी मोहब्बत बन गयी है,
बेवफा रात भर नहीं आती.!!


ऐ दिल तू धड़कना बंद कर
जब जब तू धड़कता है तब तब उनकी याद आती है
वो तू खुश है अपनी दुनिआ में
जान तो पल पल हमारी जाती है



क्यों तुझे पाने के लिये मिन्नते करु ।
मुझे तुझसे मुहोब्बत है कोइ मतलब तो नहीं ॥


सबकी ज़िंदगी में कम से कम
एक ऐसा शख्स ज़रूर होता है
जिसकी जगह और कोई नहीं ले सकता


TERE रुखसार पर ढले हैं मेरी शाम के किस्से,
खामोशी से माँगी हुई मोहब्बत की दुआ हो TUM।


तेरे रंग मे मै रंग जाऊ तेरी बांहों मे मै पूरी तरह बिखर जाऊँ.
सच्ची मोहब्बत की  मैंने सिर्फ तुझसे.
तू कहे तो जी लूँ तू कहे तो मर जाऊ.



किसी के प्यार को पा लेना ही मोहब्बत नहीं होता है,
किसी को दूर रहने पर उसको पल पल
याद करना भी मोहब्बत ही होती है.

शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com


क्या खूब कतल का तरीका तूने इज़ात किया..!
मर जाऊं हिचकियों से ही इस कदर तूने याद किया..!!


सपना क्या है, नयन सेज पर
सोया हुया आंख का पानी
और टूटना है उसको ज्यों
जागे कच्ची नींद जवानी
गीली उमर बनाने बालो, डूबे बिना नहाने बालो
कुछ पानी के बह जाने से सावन नहीं मरा करता है।



चले भी आओ तसव्वुर में मेहरबां बनकर;
आज इंतज़ार तेरा, दिल को हद से ज्यादा है!


जरा तो शर्म करती तू..
मुहब्ब्त चुप चुप के और नफरत सरे आम…


जुदा तो एक दिन, सांसे भी हो जाती हैं..
पगली..
और तुझे सिर्फ़, महोब्बत से शिकवा है..!


हम तराश देंगे तुमको..
इस कदर लफ्जों मे …
की हमारी शायरी में सिर्फ..
तुम्हारा ही किस्सा होगा..


ये सर्द हवाएं कह रही है, तुझे गले से लगा लूँ,
छुप जाऊँ तेरी बाहों में, और दुनिया को भुला दूँ।


किसी को फूलों में ना बसाओ
फूलों में सिर्फ सपने बस्ते है
अगर बसाना है तो दिल में बसाओ
क्युकी दिल में सिर्फ अपने बस्ते है


उस शख्स को पाना, इतना मुश्किल भी नही, मेरे दोस्त..
मगर जब तक दूरी न हो, मुहब्बत का मजा नही आता..!





तेरी मोहब्बत से लेकर तेरे अलविदा कहने तक,
मेंने सिर्फ तुझे चाहा है, तुझसे कुछ नहीं चाहा !!!



मोहब्बत बेवफा के सिवा कुछ भी नहीं
दुनिया ग़म के सिवा कुछ भी नहीं
उनके पास हमारे सिवा सब कुछ है
पर हमारे पास उनके सिवा कुछ भी नहीं,



अपनी ही गली की लड़की पर दिल आया है,
बात आगे बढ़ाने उश्के भाई को पट्टाया है.



बड़ी सादगी से उसने कह दिया, रात
को सो भी लिया कर….
रातो को जागने से मोहब्बत लौट नहीं आती …



जिंदा है तो बस तेरी इश्क की रहमत पर,
हम मर गये तो समझना तेरा प्यार कम पड गया….


कभी सुर्ख है कभी स्याह हैं,
एक कतरा तुम्हारी मोहब्बत का…
कभी जरा सा कभी बेपनाह है,
एक कतरा तुम्हारी मोहब्बत का…
कभी लाज़िमी कभी खामख्वाह है
एक कतरा तुम्हारी मोहब्बत का..
कभी बेला कभी महकता गुलाब है
एक कतरा तुम्हारी मोहब्बत का..


पगली तेरी महोब्बत ने मेरा ये हाल कर दिया है।
मैं नहीं रोता, लोग मुझे देख कर रोते है।



मोहब्बत को मोहब्बत से मोहब्बत हो गयी,
मोहब्बत ही मोहब्बत पे फ़िदा हो गयी,
जब मोहब्बत को मोहब्बत की मोहब्बत न मिली तो.
मोहब्बत ही मोहब्बत पर फनाह हो गयी.



कुछ लोग सिखाते है मुझे मोहब्बत के क़ायदे कानून…..!!
नही जानते वो इस गुनाह में हम सज़ा-ए-मौत के मुज़रिम हैं…..!



वो करते हैं शिकायत हमसे
कि हम हर किसी को देखकर मुस्कुराते हैं,
शायद उन्हें नहीं पता कि
हमें हर मुखड़े में सिर्फ वो ही नज़र आते हैं।



मेरे दुपट्टे में आज भी आती है,,,
तुम्हारी भीनी सी खुशबु,,,,,,


है परेशानियाँ यूँ तो बहुत सी ज़िंदगी में..
तेरी मोहब्बत सा मगर, कोई तंग नहीं करता…!!



इश्क ने हमें बेनाम कर दिया,
हर खुशी से हमें अंजान कर दिया,
हमने तो कभी नहीं चाहा कि हमें भी मोहब्बत हो,
लेकिन आप की एक नजर ने हमें नीलाम कर दिया।



आजकल बात बात पर तकरार करने लगे हो,
लगता है मुझे बेइंतेहा प्यार करने लगे हो।



मोह्हबत तो वो बारिश है जिससे छूने की चाहत में..
हथेलिया तो गीली हो जाती है पर हाथ खाली ही रह जाते है..


क्यूँ किसी से इतना प्यार हो जाता है
एक दिन का भी इंतजार दुश्वार हो जाता है
लगने लगते हैं अपने भी पराए
जब एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है


पता नहीं क्या जादू है तुम्हारे प्यार में, ❥❥❤❥❥ 
किसी और के बारे में सोचने का मन ही नहीं करता।


काश तुझे सर्दी के मौसम मे लगे मुहब्बत की ठंड,
और तू तड़प कर माँगे मुझे कम्बल की तरह..!



किस्से हैं कुछ अनकहे से अपनी जिन्दगी के,
वरना..मुस्कुराते बेहतरीन थे हम भी!!


आज उसका दीदार हो गया,
क्या कहूं इश्क फिर सवार हो गया l


ना समेट सकोगे क़यामत तक जिसे तुम,
कसम तुम्हारी तुम्हें इतनी मोहब्बत करते हैं।




हम मोहब्बत नही करते किसी से उसके चले जाने के बाद
अब चार दिन की जिंदगानी में किस किस को आज़माते फिरें


हम वो नही जो तुम्हे गम में छोड़ देंगे , 
हम वो नही जो तुजसे नाता तोड़ देंगे , 
हम वो हे जो तुम्हारी साँसे रुके तो , 
अपनी साँसे छोड़ देंगे …।।



कुछ ऐसे हो गए हैं इस दौर के रिश्ते,
जो आवाज़ तुम ना दो तो बोलते वो भी नही!!



कितने चेहरे हैं इस दुनिया में
मगर हमको एक ही चेहरा नज़र आता है
दुनिया को हम क्यों देखें
उसकी याद में सारा वक़्त गुज़र जाता है


मैंने अपनी हर एक सांस तुम्हारी गुलाम कर रखी हैं .. 
लोगो मैं ये ज़िन्दगी बदनाम कर रखी हैं .. 
अब ये आइना भी क्या काम का मेरे … 
मैंने तौ अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर रखी हैं ….



बड़ी तफ़सील से रपट लिखवाई उन्होंने मेरी गुमशुदगी की…
मैं कतरा-कतरा बरामद हुआ उनकी आँखों के कैदखाने से!!


थक गई मैं करते करते… याद तुझको,
अब तुझे मैं याद आना चाहती हूँ,
आज नहीं…. आज तो बस रो लेने दो।
शायरी मोहब्बत | Mohabbat Shayari- www.topics-guru.com

तुम मेरी तरफ देखना छोड़ो तो में बताऊँ,
हर शख्स तुम्हारी तरफ ही देख रहा है!!



सबको प्यारी हे अपनी ज़िन्दगी पर 
तु मुझे ज़िन्दगी से भी प्यारी है.


ये आईने नही दे सकते, तुझे तेरे हुस्न की ख़बर….
कभी मेरी इन आँखों से आकर पूछो तुम कितनी हसीन हो!!




यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है , 
ये वो गुनाह है जो हम बार बार करते हैं , 
जलकर हसरत की राह पर चिराग, 
हम सुबह और शाम तेरे मिलने का इंतज़ार करते हैं|



हम तो मोहब्बत के नाम से भी अनजान थे, 
एक शख्स की चाहत ने पागल बना दिया.
यूं तो पीने से कर चुके हैं तौबा, 
पर तेरे होठों का रंग देखा और नियत बदल गई.




बदनाम करते है लोग मुझे जिसके
नाम से कसम खुदा की
मैंने जी भरके कभी उसको देखा भी नहीं…











Last Word


दोस्तों  आज हम इस आर्टिकल में बात किया हैं "शायरी मोहब्बत" के बारेमे . 


दोस्तो मुझे उम्मीद है कि आपको हमारा ये  शायरी मोहब्बत पसंद आयी होंगी. आप अपने दोस्तों और  प्रियजनों के साथ Facebook & Whatsapp शेयर कर सकते हैं।

आपके पसंदिता कोनसा है शायरी मोहब्बत ?

कमेंट करके जरुर बताना.